आइए फ़ारसी सीखें-१३

Rate this item
(0 votes)

प्रिय पाठकों, मुहम्मद और रामीन, अन्तर्राष्ट्रीय फज़्र फ़िल्म फ़ेस्टिवल के बारे में वार्ता कर रहे हैं जो प्रतिवर्ष ईरान में आयोजित होता है। वे साथ-साथ सिनेमा जाकर फ़ज्र फ़ेस्टिवल की कोई फ़िल्में देखना चाहते थे। रामीन अपने मित्र मजीद को फोन करके उससे अपने और मुहम्मद के लिए दो टिकट उपलब्ध कराने को कहता है। मजीद नाट्यकला का छात्र है। वह अपने एक मित्र की सहायता से, जो सिनेमा में काम करता है, मुहम्मद और रामीन के लिए दो टिकट उपलब्ध करवाता है। यह टिकट एक ईरानी फ़िल्म के हैं। मुहम्मद और रामीन इस बात से बहुत प्रसन्न हैं कि उन्होंने फ़िल्म फ़ेस्टिवल की फ़िल्म का टिकट प्राप्त कर लिया है। वे इस संबन्ध में आपस में वार्ता करते हैं। यहां पर फ़ार्सी के कुछ शब्दों का हिंदी अनुवाद प्रस्तुत किया जा रहा है।

 

वास्तव में راستی

 

उपबल्ध تهیه

 

टिकट بلیط

 

यह क्या किया, या क्या किया? چه کار کردی؟

 

तुम्हारा मित्र دوستت

 

तुमने फ़ोन किया تو تلفن کردی

 

मजीद مجید

 

तुम कहते हो تو می گویی

 

मैंने टेलिफ़ोन किया من تلفن کردم

 

दो बार دو بار

 

उसने कहा او گفت

 

बुधवार چهارشنبه

 

शाम या संध्या بعد از ظهر

 

उसने ले लिया है। او گرفته است

 

बहुत खू़ब या ठीक है عالی است

 

बेकार, बेरोज़गार بیکار

 

कौन सी फ़िल्म چه فیلمی

 

ईरानी ایرانی

 

विदेशी خارجی

 

मैं प्रसन्न हूं من خوشحالم

 

मैं जाता हूं من می روم

 

मैं जा सकता हूं می می توانم بروم

 

साथ ही همزمان

 

समारोह, मेंला या फ़ेस्टिवल جشنواره

 

अन्तर्राष्ट्रीय بین المللی

 

फ़ज्र فجر

 

सिनेमा سینما

 

पहली बार اولین بار

 

पहली बार है برای اولین بار است

 

समय زمان

 

मैं जाता हूं من می روم

 

बहुत بسیار

 

स्थिति جالب

 

सफल موفق

 

श्री मजीद मजीदी آقای مجید مجیدی

 

मैं पहचानता हूं من می شناسم

 

निद्रेशक کارگردان

 

ईरानी ایرانی

 

ठीक है درست است

 

बर्लिन फ़िल्म फ़ेस्टिवल جشنواره فیلم برلین

 

जर्मनी آلمان

 

पुरस्कार جایزه

 

उसने प्राप्त किया है او گرفته است

 

आसमान के बच्चे ( फ़िल्म का नाम) بچه های آسمان

 

मैंने देखा है من دیده ام

 

सुन्दर زیبا

 

मुहम्मः टिकट के लिए क्या किया, क्य अपने मित्र को टेलिफ़ोन किया?

 

محمد: راستی برای تهیه بلیط چه کار کردی؟ به دوستت تلفن کردی؟

 

रामीनः मजीद को कह रहे हो? हां, उसको दो बार टेलिफ़ोन किया।

رامین: مجید را می گویی؟ بله . به او دو بار تلفن کردم.

 

मुहम्मदः मजीद ने क्या कहा? محمد: مجید چه گفت؟                                 

रामीनः उसने कहा कि बुधवार को शाम के लिए फ़िल्म समारोह के टिकट लिए हैं।

رامین : او گفت برای چهارشنبه شب بلیط جشنواره گرفته است.

मुहम्मदः बहुत खू़ब। बुधवार शाम को मुझको कोई काम नहीं है। कौन सी फ़िल्म समारोह के टिकट लिए हैं।

محمد: عالی است. من چهارشنبه بعد از ظهر بیکارم. چه فیلمی؟ ایرانی یا خارجی؟

 

राकमीनः ईरानी फ़िल्म। رامین: فیلم ایرانی                                                 

मुहम्मदः बहुत अच्छा है। मैं इस बात से बहुत प्रसन्न हूं कि अन्तर्राष्ट्रीय फ़ज्र फ़िल्म समारोह के अवसर पर फ़िल्म देख सकूं।

محمد: خیلی خوب است. خوشحالم که می توانم همزمان با جشنواره بین المللی فجر به سینما بروم.

 

 रामीनः मैं भी पहली बार फ़िल्म समारोह के समय सिनेमा जा रहा हूं। 

 

 رامین : من هم برای اولین بار است که در زمان جشنواره فیلم به سینما می روم.

मुहम्मदः ईरानी फ़िल्में बहुत रोचक  होती हैं।

محمد: فیلم های سینمایی ایرانی بسیار جالبند.

 

रामीनः हां, ईरानी फ़िल्में विदेशी फ़िल्म समारोहों में सफ़ल होती हैं।

رامین : بله . فیلمهای ایرانی در جشنواره های خارجی هم موفقند.

 

मुहम्मदः मैं श्री मजीद मजीदी को पहचानता हूं। वे एक सफल ईरानी निर्देशक हैं।

 

 محمد: من آقای مجید مجیدی را می شناسم. او یک کارگردان موفق ایرانی است.

 

रामीनः ठीक है। उन्होंने जर्मनी में बर्लिन फ़िल्म समारोह में पुरूस्कार

प्राप्त किया है।

رامین : درست است . او از جشنواره فیلم برلین در آلمان هم جایزه گرفته است.

 

मुहम्मदः मैंने आसमानी बच्चे नामक फ़िल देखी है। इस सुन्दर फ़िल्म के निर्देशक श्री मजीदी हैं।

 

محمد : من فیلم بچه های آسمان را دیده ام. کارگردان این فیلم زیبا، آقای مجیدی است.

 

 

 इस बार मुहम्मद और रामीन की वार्ता को पुनः ध्यानपूर्वक सुनिए किंतु बिना अनुवाद के। मुहम्मद और रामीन ने आपस में ईरानी फ़िल्मों तथा ईरानी निर्देशकों के बारे में विचार-विमर्श किया। श्री मजीदे मजीदी के अतिरिक्त भी कई सफल निर्देशक ईरान में अपने कार्य में व्यस्त हैं। श्री इब्राहीम हातमीकिया, रेज़ा मीर करीमी, मसऊद जोज़ानी, श्रीमती पूरान दरख़शंदे और श्रीमती रूख़शान बनी एतेमाद आदि ईरान के एसे सफल निर्देशक हैं जिन्होंने सुन्दर और यादगार फ़िल्में बनाई हैं। मुहम्मद और रामीन वे टिकट लेकर फ़िल्म देखने जाएंगे जिन्हें उन्होंने उपलब्ध करवाया है। सिनेमा के चारों और बहुत भीड़ है। वे सिनेमाघर में प्रविष्ट होते हैं और एक सुन्दर फ़िल्म देखते हैं। मुहम्मद इस फ़िल्म को देखकर बहुत आन्दित होता है। वह यह जानना चाहता है कि फ़िल्म समारोह के समापन समारोह में इस फ़िल्म को कौन सा पुरस्कार मिलेगा? यही कारण है कि फज़्र फ़िल्म समारोह से संबन्धित विषयों को वह प्रतिदिन समाचारपत्रों और टेलिविज़न कार्यक्रमों में देखता है। हम इस बात की आशा करते हैं कि मुहम्मद और रामीन ने जो फ़िल्म सिनेमा में देखी है वह फ़िल्म समारोह में पुरस्कार प्राप्त करने में सफल हो। इसी प्रकार हम यह भी आशा करते हैं कि आप फ़ारसी भाषा को सीखकर ईरानी फ़िल्मों को उनकी मूल भाषा में देखते हुए आनंदित हों।

 

 

 

Read 1324 times

Add comment


Security code
Refresh