कुरआन मुसलमानों का पहला संविधान है

Rate this item
(0 votes)
कुरआन मुसलमानों का पहला संविधान है

अंतरराष्ट्रीय समूह: बेरूत में शेख अब्दुल लतीफ ने पवित्र कुरान के सम्मान जश्न में कुरआन को मुसलमानों का पहला संविधान और कानून का मुख्य स्रोत बताया है।

"Lybanvn फ़ाइलज़" वेबसाइट के मुताबिक बताया कि बेरूत के "Alzydanyh" क्षेत्रीय कुरान सेवा केन्द्र से फारिग़ पुरुष और महिला के सम्मान में समारोह आयोजित किया गया था।
यह समारोह लेबनान के दारुल फतवा में देश के  ग्रैंड मुफ्ती शेख अब्दुल Daryan और विद्वानों और हाफीज़ों की उपस्थिति में आयोजित किया गया।
शेख अब्दुल Daryan ने समारोह में बोलते हुए कहा कि  लेबनान में कुरान सेवा के लिए बहुत केन्द्र हैं इसी लिए  देश में कुरान पाठकों की संख्या अधिक है।
इस समारोह में  बेरूत के शेख़ुल क़ुर्रा शेख मोहम्मद AKKAWI, ने जीवन में तिलावते कुरआन के महतव पर तकरीर किया।
समारोह के अंत में  शेख अब्दुल लतीफ Daryan और शेख मोहम्मद AKKAWI, ने लाइसेंस (पारंपरिक सुन्नियों के बीच कुरआन प्रमाण पत्र) को बेरूत के "Alzydanyh" क्षेत्रीय कुरान सेवा केन्द्र से फारिग़ पुरुष और महिला के सम्मान में समारोह मे सम्मानित किया

Read 1147 times