भारत व पाकिस्तान के मध्य वार्ता पर सरताज अज़ीज़ का ज़ोर

Rate this item
(0 votes)
भारत व पाकिस्तान के मध्य वार्ता पर सरताज अज़ीज़ का ज़ोर

विदेश मामलों में पाकिस्तानी प्रधान मंत्री के सलाहकार सरताज अजीज ने कहा कि भारत के साथ समग्र वार्ता में कश्मीर सहित सभी मुद्दों पर विचार होगा।

उन्होंने शनिवार को रेडियो पाकिस्तान से बातचीत में कहा कि दोनों देशों के बीच सभी समस्याओं के त्वरित समाधान की उम्मीद नहीं करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि 'आरंभ में हमारा ध्यान तनाव कम करने और नियंत्रण रेखा पर हालात सामान्य करने पर होगा ताकि दोनों ओर की जनता को राहत मिल सके।

सरताज अज़ीज़ ने बताया कि शुक्रवार को दोनों देशों के प्रधानमंत्रियों के बीच लाहौर में होने वाली बैठक में तय हुआ था कि जनवरी के मध्य में विदेश सचिव स्तर पर वार्ता के दौरान सभी मुद्दों पर विचार के लिए कार्यक्रम तैय होगा।

एक सवाल के जवाब में सरताज अजीज ने बताया कि सभी पड़ोसियों के साथ अच्छे और भाईचारे पर आधारित संबंध प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की नीति का हिस्सा है।

याद रहे कि इस साल 10 जुलाई को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी के बीच शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के 15 वें वार्षिक सम्मेलन के अवसर पर रूस के शहर ऊफ़ा में मुलाकात हुई थी।

बैठक के बाद संयुक्त घोषणा में नियंत्रण रेखा पर जारी तनाव घटाने के लिए कदम उठाने पर सहमति हुई थी।

इस मौके पर मोदी ने नवाज शरीफ की पाकिस्तान यात्रा का निमंत्रण स्वीकार किया था लेकिन भारतीय प्रधानमंत्री को 2016 में सार्क सम्मेलन में पाकिस्तान जाना था।

दोनों देशों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच 23 अगस्त वार्ता होनी थी।

भारत ने वार्ता से पहले पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल की कश्मीरी हुर्रियत नेताओं से मुलाकात पर आपत्ति जताई और वार्ता में केवल आतंकवाद पर चर्चा की शर्तें लगायी जिसके बाद दोनों देशों के मध्य तनाव बढ़ा और वार्ता रद्द हो गयी।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच वार्ता रद्द होने के बाद दोनों देशों ने कड़े बयान भी दिए और बातचीत की प्रक्रिया रुक गयी।

30 नवंबर को पेरिस में संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन से संबंधित 21वें सम्मेलन में मोदी और नवाज शरीफ की अनौपचारिक बैठक हुई, जिससे दोनों देशों के बीच तनाव में कमी आई।

मुलाकात के बाद भारत और पाकिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों ने बैंकाक में भेंट की जिसमें रचनात्मक माहौल में शांति, सुरक्षा, आतंकवाद और कश्मीर सहित सभी मुद्दों पर चर्चा हुई।

इसके बाद इस्लामाबाद में अफगानिस्तान के संबंध में हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में भाग लेने के लिए भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की पाकिस्तान गयीं।

सुषमा स्वराज ने प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनके सलाहकार सरताज से भी मुलाकात की, जिसके बाद दोनों देशों ने कश्मीर सहित सभी मुद्दों पर समग्र वार्ता शुरू करने की घोषणा की थी।   

Read 1153 times