पूरी दुनिया, पैग़म्बरे इस्लाम की पत्नी के शोक में

Rate this item
(0 votes)
पूरी दुनिया, पैग़म्बरे इस्लाम की पत्नी के शोक में

 

इस्लामी गणतंत्र ईरान सहित पूरी दुनिया में आज पैग़म्बरे इस्लाम (स) की निष्ठावान पत्नी का शोक मनाया जा रहा है।

शनिवार दस रमज़ान बराबर 26 मई 2018, पैग़म्बरे इस्लाम की निष्ठावान पत्नी हज़रत ख़दीजा के स्वर्गवास का दिन हैं।

पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल्लाहो अलैहि व आलेही व सल्लम द्वारा पैग़म्बरी की घोषणा के दसवें वर्ष रमज़ान महीने की १० तारीख़ और मक्का से मदीना पलायन से तीन वर्ष पहले हज़रत ख़दीजा का स्वर्गवास हुआ था। 

हज़रत ख़दीजा जहां अरब समाज में एक बहुत पूंजीपति महिला थीं वहीं उन्हें एक आध्यामिक, पवित्र, त्यागी, ऊंची व दूरगामी सोच रखने वाली महिला के रूप में भी जाना जाता था। इस्लाम से पहले के काल में भी जब पाक दामनी को कोई विशेष महत्व नहीं था तब हज़रत ख़दीजा ताहेरा के नाम से प्रसिद्ध थीं।

पवित्र रमज़ान का महीना इस्लामी जगत की उस महान महिला के स्वर्गवास की याद दिलाता है जो पैग़म्बरे इस्लाम सल्लल लाहो अलैहि व आलेही व सल्लम की बहुत अच्छी जीवन साथी थीं।

हज़रत ख़दीजा सलामुल्लाह अलैहा ने पैग़म्बरे इस्लाम के साथ 24 साल वैवाहिक जीवन बिताया। इस दौरान उन्होंने पैग़म्बरे इस्लाम और इस्लाम की बहुत सेवा की।

उन्होंने उस समय पैग़म्बरे इस्लाम की आत्मिक, भावनात्मक और वित्तीय मदद की और उनकी पैग़म्बरी की पुष्टि की जब पैग़म्बरे इस्लाम को पैग़म्बर मानने के लिए कोई तय्यार न था। अनेकेश्वरवादियों के मुक़ाबले में हज़रत ख़दीजा की पैग़म्बरे इस्लाम को मदद, उनकी मूल्यवान सेवा का बहुत बड़ा भाग है।

हज़रत ख़दीजा जब तक ज़िन्दा रहीं उस वक़्त तक अनेकेश्वरवादियों को इस बात की इजाज़त न दी कि वे पैग़म्बरे इस्लाम को यातना दें। जब पैग़म्बरे इस्लाम दुख से भरे घर लौटते थे तो हज़रत ख़दीता उनकी ढारस बंधातीं और उनके मन को हलका करती थीं।

* पार्स टूडे अपने पाठकों और श्रोताओ की सेवा में पैग़म्बरे इस्लाम की निष्ठावान पत्नी के स्वर्गवास के अवसर पर हार्दिक संवेदना प्रस्तुत करता है।* 

 

Read 58 times

Add comment


Security code
Refresh