इमाम ख़ुमैनी और उनके उत्तराधिकारी के प्रति वफ़ादारी साबित करना ज़रूरी।

Rate this item
(0 votes)

इमाम ख़ुमैनी और उनके उत्तराधिकारी के प्रति वफ़ादारी साबित करना ज़रूरी।

तेहरान की सेंट्रल जुमे की नमाज़ के इमाम ने ईरान की इस्लामी इंक़ेलाब के संस्थापक इमाम ख़ुमैनी की बरसी को एक बार फिर शानदार तरीके से मनाये जाने का ऐलान किया है।

जुमे की नमाज़ के भाषण में आयतुल्लाह अहमद ख़ातेमी ने इमाम ख़ुमैनी की आगामी 25वीं बरसी की ओर इशारा करते हुए कहा, इस अवसर पर भव्य समारोहों का आयोजन, इमाम ख़ुमैनी और उनके उत्तराधिकारी के प्रति वफ़ादारी साबित करनी होगी।

आयतुल्लाह अहमद ख़ातेमी ने ईरान में शाही हुकूमत के ख़िलाफ़ 5 जून 1963 के आंदोलन को इस्लामी इंक़ेलाब की कामयाबी की शुरूआत बताया और कहा कि 11 फ़रवरी 1979 को इस आंदोलन का नतीजा हासिल हुआ।

तेहरान की सेंट्रल नमाज़े जुमा के इमाम ने बयान किया कि जब तक अमरीका इस्लामी इंक़ेलाब के प्रति अपनी दुश्मनी जारी रखेगा, ईरानी राष्ट्र इस्लामी इंक़ेलाब का मशहूर नारा अमरीका मुर्दाबाद लगाता रहेगा।

Read 1045 times