ईरान-तुर्की के आर्थिक संबंध, क्षेत्रीय अर्थ व्यवस्था का इंजन

Rate this item
(0 votes)

ईरान-तुर्की के आर्थिक संबंध, क्षेत्रीय अर्थ व्यवस्था का इंजन

राष्ट्रपति ने ईरान व तुर्की के आर्थिक संबंधों में विस्तार को, क्षेत्र की अर्थ व्यवस्था के इंजन की संज्ञा दी है।

डाक्टर हसन रूहानी ने सोमवार की रात अन्कारा में तुर्की के राष्ट्रपति अब्दुल्लाह गुल की ओर से दिए गए रात्रिभोज में दोनों देशों की अपारा आर्थिक संभावनाओं की ओर संकेत करते हुए कहा कि ईरान व तुर्की की आर्थिक समरसता, द्विपक्षीय संबंधों से आगे बढ़ कर क्षेत्रीय देशों की अर्थ व्यवस्था के लिए इंजन सिद्ध हो सकती है। उन्होंने कहा कि ईरान में इस्लामी क्रांति की सफलता के बाद से दोनों देशों के राजनैतिक, सांस्कृतिक और आर्थिक संबंध में निरंतर विस्तार आया है।

राष्ट्रपति रूहानी ने इसी प्रकार क्षेत्र के कुछ देशों में जारी आतंकवाद व चरमपंथ की ओर संकेत करते हुए कहा कि खेद की बात है कि कुछ बाहरी शक्तियों के हस्तक्षेप के कारण चरमपंथ की समस्या अधिक जटिल हो गई है और इसकी रोकथाम के लिए ईरान व तुर्की का आपसी सहयोग आवश्यक प्रतीत होता है। उन्होंने कहा कि ईरान व तुर्की के संबंधों में मज़बूती न केवल क्षेत्र और विश्व स्तर पर दोनों देशों की स्थिति को सुदृढ़ बनाएगी बल्कि इससे पूरे क्षेत्र की राजनैतिक, आर्थिक एवं सामाजिक स्थिति मज़बूत और शांति व सुरक्षा प्रबल होगी।

Read 1150 times